भोपाल में अमृत काल मंथन से 11 प्रस्ताव पारित; नए तेवर के साथ भारत जोड़ने में जुटेगा मुस्लिम राष्ट्रीय मंच

0
मुस्लिम राष्ट्रीय मंच

भोपाल, 11 जून। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के चार दिवसीय अभ्यास वर्ग के समापन पर आरएसएस राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य और मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार ने अभ्यास वर्ग को ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि विश्व में यह पहला मौका है जब कहीं भी किसी भी मुस्लिम संगठन का इस प्रकार से कोई अभ्यास वर्ग हुआ, जिसमें देश और दुनिया में मुस्लिमों कि स्थितियों पर चिंतन और उससे जुड़ी बातों पर अनगिनत प्रस्ताव पारित किए गए। 100 से अधिक कार्यकर्ताओं को नई जिम्मेदारियां भी दी गई हैं।

 

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार

Must Watch Video

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच  के 11 प्रस्ताव पारित

संघ नेता ने बताया कि चार दिनों में 11 विषयों को लेकर प्रस्ताव पारित किए गए और कुछ नए लक्ष्य रखे गए। जिनमें सबसे मुख्य रहा एक देश, एक कानून, जिसे लोग यूनिफॉर्म सिविल कोड कहते हैं। इसके अलावा जनसंख्या नियंत्रण, लव जिहाद जैसे मुद्दे हावी रहे। जबकि नए लक्ष्य में नए सिरे से भारत जोड़ने की मुहिम शामिल रहेगी।

 

उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज से जुड़े बुद्धिजीवियों ने अलग अलग विषयों पर चिंतन किया और व्याख्यान पेश किया। जिनमें पूर्व वाइस चांसलर, आईआईटी के पूर्व डायरेक्टर, प्रोफेसर, चिकित्सा विशेषज्ञ, वकीलों और अन्य बुद्धिजीवियों ने अपनी राय रखी।

Must Watch Video

 

एक देश, एक कानून क्यों?

भोपाल के पीपुल्स ग्रुप ऑडिटोरियम में पत्रकारों को संबोधित करते हुए मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार ने कहा कि दुनिया के किसी भी देश में अलग अलग धर्मों, समुदायों को लेकर वहां के कानून से कोई समस्या नहीं है। ऐसे में फिर भारत में क्यों समस्या है? उन्होंने उदाहरण देकर कहा कि अगर किसी कार दुर्घटना में यदि अलग अलग धर्मों के लोगों को मुआवजा देना है तो क्या सबको अलग अलग इनके धर्मों के मुताबिक दिया जायेगा या एक कानून से सबको बराबर धन दिया जायेगा? इसी तरह अगर कोई धर्म विशेष रोड कर कर इबादत करे तो उसमें क्या करना चाहिए? देखा देखी दूसरा धर्म भी वही करेगा। ऐसे में इसको रोकने के लिए कोई तो कानून होना चाहिए जो सबके लिए एक समान हो।

Must Watch Video

जनसंख्या विस्फोट

जनसंख्या, शिक्षा और रोजगार के मुद्दे पर उन्होंने बताया कि मुस्लिम धर्म में स्कूल ड्रॉप आउट की संख्या सबसे अधिक है। मुस्लिम धर्म के लोग देश में करीब 20 करोड़ हैं और उनमें से ग्रेजुएट मात्र 3 प्रतिशत से भी कम हैं। ऐसे लोगों में रोजगार की समस्या भी रहती है और ये जहां रहते हैं वहां का क्राइम रेट भी अधिक होता है। और अगर ओवरऑल देखें तो विश्व के 17 फीसदी लोग भारत में रहते हैं जबकि संसाधन विश्व का मात्र 6 प्रतिशत है। यानी भारत में स्थिति विस्फोटक हो रही है। इसलिए इस पर लगाम लगाने का प्रस्ताव पारित किया गया है।

 

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की बैठक

लव, सेक्स और धोखा

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार ने लव जिहाद के विषय पर भी तीखी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहां इसके भी खात्मे की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसे कैसे होता है की साथ साथ जीने मरने की कसम खाने वाले दो पल में ही खून के प्यासे बन जाते हैं। बाद में पता चलता है कि लड़के ने आइडेंटिटी कुछ और निकलती है, उसका पहना कलावा भी झूठा निकलता है, तो कहीं धर्म परिवर्तन करा दिया जाता है। ऐसे प्यार का क्या मतलब जिसमें दूसरे की पहचान मिटानी पड़ती हो?

 

Must Watch Video

 

गो सेवा सर्वोपरि

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार ने ईद उल अजहा में गाय की कुर्बानी पर पूरी तरह से रोक की भी बात की। उन्होंने कहा कि गाय की कुर्बानी हराम है। गाय की सेवा करनी चाहिए और इसके दूध और दूध से बनी चीजें शिफा (बीमार को अच्छा) देती हैं। उन्होंने बताया कि मुस्लिम मंच के कार्यकर्ता देश भर में गायों की सेवा कर रहे हैं और सदैव करते रहेंगे।

 

रक्षा की डोर

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की बैठक में आगामी रक्षा बंधन के त्योहार को भी हर साल की तरह खूब धूम धाम से मनाने का फैसला किया गया है। मंच हर वर्ष अंतरराष्ट्रीय रक्षा बंधन पर्व मनाया करता है और इस बार भी पूरी तन्मयता के साथ इसे मनाया जायेगा।

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

21 जून को विश्व योग दिवस भी पूरी श्रद्धा और आस्था की तरह मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस्लाम में योग करना हराम नहीं है। जो भी ऐसी बात करता है उसे इसका मतलब है कि इस्लाम का ज्ञान नहीं है। योग एक तरह का विज्ञान है जो व्यक्ति को सेहतमंद रखता है। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की लगभग 2500 इकाइयां योग दिवस को मनाएंगी।

 

जनजागरण अभियान

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार ने 20 अगस्त से 30 सितंबर तक लोगों को जोड़ने की मुहिम चलाने / जनसंपर्क अभियान चलाने का फैसला किया है। इसमें छोटे बड़े 3000 से अधिक कार्यक्रम होंगे जो मंच के हजारों कार्यकर्ताओं की सहायता से पूरा होगा। और 15 लाख परिवारों से अधिक अर्थात लगभग 50 लाख लोगों के बीच मंच के कार्यकर्ता जाएंगे और देश की एकता, अखंडता, संप्रभुता की बातें पहुंचाएंगे। इसमें दंगा मुक्त, छुआ छूत मुक्त, प्रदूषण मुक्त और समरसता, सद्भावना और भाईचारा वाला भारत बनाएंगे।

 

Read Also

रूहानी इबादत है इस्लाम, अतीक और अमृतपाल जैसे लोग हैं देश के लिए नासूर: इंद्रेश कुमार

Reshma lived a life of charity, not selfishness: Indresh Kumar

How to Register for the Shri Amarnath Yatra 2023?

समान नागरिक संहिता को मुस्लिम राष्ट्रीय मंच समर्थन

SHARE NOW

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *