• चिंता कोरोना से या बदलाव के शंखनाद से?

    चिंता कोरोना से या बदलाव के शंखनाद से?0

    बिहार में चुनावी सरगर्मियां तेज़ी से बढ़ती जा रही हैं. बिहार की राजनीति का पारा दिल्ली तक बखूबी महसूस किया जा सकता है. दिन प्रतिदिन चुनावी चकल्लस और रैलियों में जोश बढ़ता जा रहा है. कुछ समय पहले तक जो चुनाव बीजेपी जेडीयू गठबंधन के लिए एकतरफ़ा सा लग रहा था वो हर बीतते समय

    READ MORE
  • कहानी – मन्नत की डायरी

    कहानी – मन्नत की डायरी0

    विद्या अब बेचैन हो उठी थी। अब और इंतज़ार नहीं हो पा रहा था। शाम के 6 बज रहे थे। मन ही मन वो बुदबुदाने लगी “ पूरा का पूरासिस्टम सड़ चुका है, पता नहीं कब सुधरेगा ये, सुबह से शाम होने को है लेकिन……..” वो बड़बड़ाए जा रही थी तभी अचानक कॉलबेलबजी। लगभग दौड़ते

    READ MORE
  • वैश्विक महामारी, आरोग्य सेतु ऐप और निजता पर संकट

    वैश्विक महामारी, आरोग्य सेतु ऐप और निजता पर संकट2

    वैश्विक महामारी कोविड-19 से निपटने के लिए पूरी दुनिया हर संभव कोशिश कर रही है। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज तक पहुंचने के लिए दुनियाभर की सरकारें तकनीक का इस्तेमाल कर रही हैं। गूगल और फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियां महामारी पर नियंत्रण पाने में सरकार की मदद कर रही हैं। अमरीकी मीडिया के अनुसार, गूगल

    READ MORE
  • कोरोना काल – प्रवेश द्वार, प्रलयंकर-साल

    कोरोना काल – प्रवेश द्वार, प्रलयंकर-साल0

    कविता : प्रवेश-द्वार   मंदिरों के चढ़ावे रुक गए, मस्जिदों का सदका भी बंद, चर्चों को भी चंदे नहीं मिल रहे, गुरुद्वारों के दान का भी वही हाल; हो न हो,कोरोना के बढ़ते संक्रमण का धर्मस्थलों के प्रवेशद्वार बंद कर दिए जाने से सीधा-सीधा और पक्का संबंध हो! ईश्वर,अल्लाह,गॉड,वाहेगुरु कुपित,क्रोधित होकर,मज़ा चाखा रहे हों! जब

    READ MORE
  • ‘होरी’ की कोरोना से भिड़ंत, मिला नोबेल प्राइज़

    ‘होरी’ की कोरोना से भिड़ंत, मिला नोबेल प्राइज़0

    करोना से दुनिया परेशान थी अंदर तक लहूलुहान थी । उसको देवी,देवता,खुदा, गॉड ,सब कर चुके निराश। बस इंसानों से ही थी कुछ आश । मैं भी देख रहा था दुनिया में इंसान को तिल तिल मरता । आखिर होरी भी कब तक,  क्या न करता ? उधर दुनिया की शानो शौकत रो रही थी।

    READ MORE
  • कोरोना का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू

    कोरोना का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू0

    कोरोना बोला होरी क्या है हाल ? मैं बोला यह कैसा सवाल ? मचा रखा दुनिया में इतना बवाल ? फिर पूछते हो कैसा है हाल ? अरे “होरी” ,गुस्सा नहीं करते । कवि हो इतना नहीं समझते । अतिथि हूं गोबर ही खिला देते गोमूत्र ही पिला देते और वे दुनियां भर की मिसाइलें

    READ MORE

Latest Posts

Top Authors